नई ताजा खबर , चीन में हुआ iPhone बैन

चिन गवर्नमेंट ने चीन में i phone को बेन कर दिया है इससे i phone कंपनी को बहुत बड़ा झटका लगा है पहले USA ने Chinese Phone को USA में बेन कर दिया गया 5 सितम्बर को एप्पल के शेयर का दम लगभग 190 billion dollars था जो की अब 177.56 billion dollars पर पहुँच गया है कम्पनी में करीब 3% की गिराबट दर्ज की गई है इसी कारण एप्पल को केवल दो दिनों में
200 billion dollars का नुकसान हो गया है क्यूंकि सबसे ज्यादा i phone चीन में ही Manufacture हो रहे थे

हम आपको पहले बताते हैं कि आज से बहुत समय पहले US ने चीनी फोन US में बेन कर दिए था खास कर Huawei और Mi और इस के साथ oppo,vivo को भी बैन कर दिया था

हाल ही INDIA में हुई G20 बैठक पर विदेशी मीडिया का रिएक्श

अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने लिखा (American newspaper the New York Times wrote)

शनिवार शाम को नई दिल्ली में जी-20 शिखर सम्मेलन में | काफी जटिल बातचीत के बाद जारी घोषणापत्र में यूक्रेन पर रूस के हमले या युद्ध के उसके बर्बर तरीके की निंदा नहीं की गई है. बल्कि यूक्रेनी लोगों की पीड़ा पर दुख जताया गया है.इस साल कम उम्मीदें थीं कि बंटे हुए जी-20 में यूक्रेन के सवाल पर सदस्य देश किसी सहमति पर पहुंच पाएंगे अपर ऐसा नहीं हुआ बहुत से सदस्य आए

भारत को माध्या पूरब देशो से जोड़ने के लिए रेल और शिपिंग कॉरिडोर बनाने की भी बात की गई है इसमें कहा गया हालांकि परियोजना में समय सीमा या बजट समेत कई अहम ब्योरों का जिक्र नहीं किया गया है. अमूमन यूक्रेन के सवाल पर अमेरिका और पश्चिमी देशों की जो बयानबाजी होती है उसकी तुलना में नई दिल्ली के जी-20 सम्मेलन में उनका व्यव्हार काफी नरम था.

रूस समाचार पत्र CNN ने लिखा (Russian newspaper CNN wrote)

अंतिम सहमति सम्मेलन सम्मेलन के आयोजनों में, भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के लिए तख्तापलट के समान था, लेकिन फिर भी यह संयुक्त राज्य अमेरिका की तुलना में कहीं अधिक सामान्य स्थिति को दर्शाता है।राज्यों और उसके पश्चिमी सहयोगियों ने व्यक्तिगत रूप को अपनाया है

ब्रिटिश अख़बार The Guardian ने लिखा (British newspaper The Guardian wrote)

जी-20 के लिए ये रिप्लेसमेंट साल आ रहा है। ये ग्रुप दुनिया की सबसे बड़ी इंडस्ट्री का प्रतिनिधित्व करता है पिछले मंत्री वैज्ञानिक सम्मेलनों में रूस और चीन युद्ध, जलवायु परिवर्तन और ऊर्जा के प्रश्न पर आदिल साबित हुए थे। इससे ये बैठक आम सहमति नहीं बन पाई।

sky news

Sports update

10 सितम्बर को पाकिस्तान और भारत का मैच था जो अभी तक भी पूरा नही हुआ है अभी भी भारी बारिश के कारण मैच रुकी हुई है ग्राउंड को भी अभी कवर किया हुआ है भारी बारिश के चलते, ऐसा बिलकुल नहीं लग रहा है कि बारिश रुकेगी हालाँकि ग्राउंड को सुखाने का पूरा प्रयास किया जा रहा है

हम आपको बता दें कि पिछले पाकिस्तान और भारत का मैच भी रद्द हो गया था भारी बारिश के चलते पहले भी बारिश के ही कारन मैच रुक गई थी और इस बार भी कुछ ऐसा ही हो रहा है अभी भी भारी बारिश की चेतावनी है और अभी जो मैनेजमेंट के लोग हैं वह ग्राम सुखाने की पूरी तैयारी में लगे हुए हैं क्या आपको लगता है कि यह मैच पूरा हो सकता है

आईफोन किड़िया में मैन्यूफैक्चरिंग क्यों जरूरी थी

क्योंकि आईफोन 12 की 128 GB की कीमत इंडिया में ₹80000 रुपए है तब की इसकी रिप्रोडक्शन कॉस्ट मात्र ₹30000 ही है इसलिए भी यह कंपनी हमारे इंडिया में आने जरूरी थी क्योंकि और यही फोन US मैं 58000 का बिक रहा है ₹3000 की कास्ट वाला फोन हमारे यहां 80000 में क्यों बेचा जा रहा था क्योंकि एप्पल खुद अपने प्रोडक्ट पर 50% की मार्जिन रखता है जो कि खुद उसके खाते में जाता है एप्पल के हर प्रोडक्ट पर यह मार्जिन लागू किया जाता है इसे ऐसे समझ सकते हैं

जैसे की अगर एप्पल के किसी भी प्रोडक्ट की मार्जिन कीमत ₹30000 होगी तो वह US उसे 60000 में ही सेल करेगा क्योंकि 50% मार्जिन वह खुद काम आएगा पर हमारे यहां इतना महंगा क्यों आ रहा था क्योंकि 18% की जीएसटी और 30% का (IMPORT DUTY) इंपोर्ट ड्यूटी लग जाता है इसी कारण भारत में इसकी कॉस्ट बढ़ जाती है या प्राइस बढ़ जाती है और इसी वजह से 30000 का फोन 80000 में बिकता है इसलिए कंपनी का इंडिया में आना बहुत ही जरूरी था

जिससे कि इसका प्राइस काम हो सके और जब से एप्पल की मैन्युफैक्चरिंग इंडिया में शुरू हुई है तो 15 सीरीज के लोअर मॉडल की कास्ट नहीं बड़ी है यही कारण है की मैन्युफैक्चरिंग इंडिया में हो रही है जितने ज्यादा एप्पल के प्रोडक्ट इंडिया में मैन्यूफैक्चरिंग होंगे उनकी कास्ट इंडिया में कम ही रहेगी और इंडिया के लोग भी चाहते हैं की इंडिया में एप्पल ही नहीं हर कंपनी की मैन्युफैक्चरिंग इंडिया में ही हूं

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *