अनंतनाग में भारत पर आतंकी हमला करके पाकिस्तान ने की बड़ी भूल

अनंतनाग में सेना ने आतंकियों पर कसा शिकंजा, ड्रोन से की जा रही है बमबारी

मुठभेड़ में घायल एक और जवान बलिदान,चार की जा चुकी है जान

श्रीनगर। अनंतनाग के कोकरनाग के गडूल जंगल में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में सेना ने अभियान और तेज कर दिया है। आतंकियों के सफाए के लिए हेलिकॉप्टर, ड्रोन, रॉकेट लॉन्चर और मोर्टारों का सहारा लिया जा रहा है। बड़ी संख्या में सुरक्षाबलों ने इलाके को घेरे में लिया हुआ है। हालांकि यह पूरा इलाका घने जंगल और सीधी पहाड़ियों वाला है, इसलिए इनपर चढ़ना बेहद कठिन है। अभियान में सेना के पैस कमांडो के अलावा पुलिस व अर्धसैनिक बल के जवान भी शामिल किए गए है। जिस होने की को जगह आतंकियों के छिपे आशंका है, वहां शुक्रवार बम गिराए गए।

वहीं इस मुठभेड़ में घायल सेना का एक और जवान शुक्रवार को बलिदान हो गया। इसके साथ हो इस ऑपरेशन में बलिदानियों की संख्या चार हो गई है। एक सुरक्षा अधिकारी ने बताया, बृहस्पतिवार से लापता

गडूल जंगल में छिपे आतंकियों को हेलिकॉप्टर की मदद से ढूंढा जा रहा है।

कर्नल, मेजर व डीएसपी हो चुके बलिदान : अनंतनाग के इस मुठभेड़ में बुधवार की 19 राष्ट्रीय राइफल के कमांडिंग अफसर कर्नल मनप्रीत सिंह, मेजर आशीष चौंचक और जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीएसपी हुमायूँ भट बलिदान हो चुके हैं।

बताए जा रहे एक जवान ने शुक्रवार को अंतिम सांस ली। हालांकि सेना ने अब तक इस जवान की पहचान जाहिर नहीं की है और न ही इसके बारे में आधिकारिक रूप से कोई सूचना दी गई है। सूत्रों ने बताया कि शुक्रवार दिनभर इस इलाके से गोलियों की आवाज आती रही।

हालांकि आतंकियों की ओर से गोलीबारी लगभग बंद बताई जा रही है। शुक्रवार को पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह दोपहर में कोकरनाग पहुंचे। उन्होंने ऑपरेशन में शामिल पुलिस व सेना के अधिकारियों से अब तक की कार्रवाई के बारे में जानकारी ली

अंतिम विदाई

सेना की वर्दी पहनकर बेटे ने कर्नल मनप्रीत को किया सैल्यूट बलिदानी कर्नल मनप्रीत सिंह को चंडीगढ़ में उनके पैतृक गांव भड़ौजियां में अंतिम विदाई दी गई। सेना की वर्दी पहने उनके सात साल के बेटे कबीर ने जब पिता को सैल्यूट करते हुए मुखाग्नि दी, तो हर आंख नम हो गई।

लश्कर आतंकियों के दो मददगार गिरफ्तार

बारामुला। सुरक्षाबलों ने उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के उड़ी में लश्कर- ए-ताइबा के आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ कर दो मददगारों को हथियारों के साथ गिरफ्तार किया। इनकी पहचान जैद हसन व उड़ी में दबोचा मो. आरिफ के रूप में हुई है। दोनों मीर साहिब में स्टेडियम कॉलोनी के रहने वाले हैं। उनके पास से दो पिस्तौल, मैगजीन, चीन निर्मित पांच ग्रेनेड व 28 कारतूस बरामद हुए।

पुलिस के अनुसार, दोनों आरोपी सीमापार से हथियारों की तस्करी में भी शामिल रहे हैं। वे सीमापार सक्रिय आतंकी हैंडलरों से हथियार

अनंतनाग में जो जवान शहीद हुए हैं यही अनंतनाग में ज्वाइंट ऑपरेशन में जो जवान शहीद हुए हैं उन्हें अंतिम विदाई दी जा रही है और दूसरी और पानीपत में मेजर आशीष को नाम आंखों से विदाई दी गई और दूसरी ओर करनाल मनप्रीत का पार्थिव शरीर उनके गांव मोहाली में पहुंचाया गया है और उनका जो बेटा है सेवा की प्रति पहने हुए अपने पिता को सैल्यूट करता नजर आया तस्वीर बहुत दुखद है

सी बहुत नाराज है और गुस्से में भी है जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में तीन दिनों से मुठभेड़ चल रही है जिसके दौरान यह सारी घटना हुई है वहां पर पहले ही दिन आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों के जवानों पर हमला किया और जो हमला किया वह धोखे से किया जिससे जवानों को संभालने का मौका ही नहीं मिला यही कारण है की कुछ जवान शाहिद भी हो चुके हैं जिनकी गिनती तीन बताई जा रही है भारत के तीन सपूत शाहिद हो गया उसे इलाके में दो आतंकवादियों को गहरा गया है जिनकी ठोस जानकारी जवानों को मिली थी

हमारे देश की तरफ से ड्रोन से छानबीन की जा रही है और हमले को भी ड्रोन से अंजाम दिया जा रहा है हालांकि जवान भी डटे हुए हैं फायरिंग रुक रुक कर हो रही है जो आतंकी है उनका ठीक अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है क्योंकि आतंकी ऊपर पहाड़ी पर चढ़ रहे हैं जिसे वह जगह बदल बदल कर रहे हैं इस कारण उनका सटीक अंदाजा नहीं लगपा रहा है पहले ड्रोन से पहाड़ी पर नजर रखी गई फिर उसके बाद ड्रोन की मदद से पहाड़ी धुआं धुआं कर दी गई

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *